Home / हेल्थ-फिटनेस / Tuberculosis: फेफड़ों के अलावा इन अंगों में भी हो सकती है टीबी, जानें सभी प्रकार और लक्षण

Tuberculosis: फेफड़ों के अलावा इन अंगों में भी हो सकती है टीबी, जानें सभी प्रकार और लक्षण

ट्यूबरकुलोसिस एक संक्रमण है, जो शरीर के विभिन्न भागों को संक्रमित कर सकता है. हालांकि, फेफड़ों में होने वाला टीबी सबसे आम प्रकार है. कोरोना की तरह फेफड़ों की टीबी भी खांसी, छींक आदि के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में प्रवेश कर सकती है. टीबी का कारण बनने वाले बैक्टीरिया इस बीमारी के वाहक होते हैं. हालांकि, देश में टीबी का उपचार और रोकथाम उपलब्ध है. लेकिन फिर भी इससे जुड़ी जानकारी के बारे में पता होना बहुत जरूरी है.

इस आर्टिकल में हम टीबी के मुख्य प्रकार और उसके लक्षणों के बारे में जानेंगे.

टीबी के कौन-से लक्षण होते हैं? (symptoms of TB)
मायोक्लिनिक के मुताबिक, टीबी होने पर संक्रमित व्यक्ति में निम्नलिखित लक्षण दिख सकते हैं. जैसे-

  • थकान
  • बुखार
  • तीन या उससे ज्यादा हफ्तों से खांसी
  • खांसी में खून आना
  • खांसते या सांस लेते हुए सीने में दर्द होना
  • अचानक वजन घटना
  • ठंड लगना
  • सोते हुए पसीना आना
  • भूख का कम होना

जैसा कि हमने बताया कि टीबी फेफड़ों के अलावा किडनी, दिमाग, स्पाइन जैसे शारीरिक अंगों को भी प्रभावित कर सकती है. ऐसे में उसके लक्षण भी इन अंगों से जुड़े हो सकते हैं.

ट्यूबरकुलोसिस के प्रकार (Types of TB)
हेल्थलाइन के मुताबिक, ट्यूबरकुलोसिस के मुख्य प्रकार निम्नलिखित हो सकते हैं. जैसे-

एक्टिव टीबी- एक्टिव टीबी में आपके शरीर में मौजूद टीबी के बैक्टीरिया सक्रिय होते हैं और यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते हैं. इस प्रकार की टीबी में संक्रमित व्यक्ति के अंदर टीबी के लक्षण दिखाई देते हैं. एक्टिव टीबी पल्मोनरी और एक्स्ट्रापलमोनरी दोनों हो सकती है.

लेटेंट टीबी- लेटेंट टीबी के अंदर आपके शरीर में टीबी के बैक्टीरिया मौजूद तो होते हैं, लेकिन वे सक्रिय नहीं होते. इसका मतलब इस प्रकार में संक्रमित व्यक्ति के अंदर टीबी के लक्षण नहीं दिखते हैं और वह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलती है. हालांकि, लेटेंट टीबी 5 से 10 प्रतिशत मामलों में एक्टिव टीबी का रूप ले सकती है.

अन्य प्रकार
पल्मोनरी टीबी- इस टीबी के अंदर ट्यूबरकुलोसिस के बैक्टीरिया फेफड़ों को प्रभावित करते हैं.

एक्स्ट्रापलमोनरी टीबी- जब टीबी के बैक्टीरिया फेफड़ों के अलावा दूसरे अंगों को प्रभावित करते हैं, तो उससे एक्स्ट्रापलमोनरी टीबी कहा जाता है. जैसे-

  1. लिंफ नोड्स को संक्रमित करने वाली TB lymphadenitis.
  2. जब फेफड़ों या लिंफ नोड्स से बैक्टीरिया हड्डियों को प्रभावित करते हैं, तो उससे Skeletal TB कहते हैं.
  3. जब एक से ज्यादा मुख्य शारीरिक अंगों में टीबी हो जाए, तो उसे Miliary TB कहते हैं.
  4. जननांग और यूरिनरी ट्रैक्ट को संक्रमित करने वाली Genitourinary TB.
  5. लिवर को प्रभावित करने वाली Liver TB
  6. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट को प्रभावित करने वाली Gastrointestinal TB
  7. दिमाग और स्पाइनल कोर्ड के आसपास मौजूद मेंब्रेन को प्रभावित करने वाली TB meningitis
  8. पेट की अंदरुनी व पेट के अन्य हिस्सों को कवर करने वाली टिशू की परत को प्रभावित करने वाली TB peritonitis
  9. दिल के आसपास मौजूद pericardium टिश्यू लेयर को प्रभावित करने वाली TB pericarditis
  10. विभिन्न शारीरिक हिस्सों की त्वचा को प्रभावित करने वाली Cutaneous TB, आदि.

Check Also

रोजाना खाएं एक उबला अंडा, कोसों दूर भागेगी बीमारी

शरीर को हेल्दी और फिट बनाए रखने के लिए कई चीजों का सेवन करना जरूरी ...