Home / धर्म / Lord Hanuman: हर तरह के रोग और दोष से छुटकारा दिलाने में मदद करेंगे हनुमान जी के ये उपाय

Lord Hanuman: हर तरह के रोग और दोष से छुटकारा दिलाने में मदद करेंगे हनुमान जी के ये उपाय

नई दिल्ली: जब हम बीमार पड़ते हैं तो सबसे पहले डॉक्टर के पास जाते हैं. लेकिन कई बार महंगे से महंगा इलाज कराने के बाद भी बीमारी ठीक नहीं होती, रोग लंबे समय तक बना रहता है और मरीज बिस्तर पकड़ लेता है. कई बार तो बीमारी की मूल वजह भी पता नहीं चल पाती. ऐसे में आयुर्वेद (Ayurveda) की मानें तो देवताओं का ध्यान और स्मरण करने से भी सभी तरह के शारीरिक और मानसिक रोग (Physical and mental disease) दूर हो जाते हैं. किसी भी प्रकार का कष्ट या शारीरिक पीड़ा क्यों न हो, हनुमान जी से जुड़े उपाय (Remedies related with Lord Hanuman) इन्हें दूर करने में मदद कर सकते हैं.

हनुमान जी से जुड़े इन उपायों से रोग का होगा नाश

मंगलवार का दिन पवनपुत्र हनुमान जी का दिन होता है. ऐसे में अगर आप भी किसी तरह की बीमारी से ग्रस्त हैं या परिवार में कोई लंबे समय से बीमार है या फिर बार-बार रोग और परेशानियां आपको घेर लेती हैं तो हनुमान जी का ये मंत्र (Hanuman ji mantra) और उनसे जुड़े उपाय आपके बहुत काम आ सकते हैं.

1. इन मंत्रों से बीमारियां होंगी दूर

दोहा मंत्र
बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरौं पवनकुमार।
बल बुधि बिद्या देहु मोहि हरहु कलेस बिकार।

चौपाई मंत्र
नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) के इस दोहे और चौपाई का अगर मंत्र की तरह जाप किया जाए तो जटिल से जटिल बीमारियां भी ठीक हो जाती हैं. साथ ही शारीरिक दुर्बलता और घर परिवार में हो रहा क्लेश और नकारात्मकता भी दूर हो जाती है. इन मंत्रों का जाप आप हनुमान जी के मंदिर में, घर में, दिन के समय या रात में, जब मौका मिले बस हनुमान जी का ध्यान करते हुए कर सकते हैं.

2. बजरंग बाण का पाठ करें

ऐसी मान्यता है कि बजरंग बाण का पाठ (Bajranj ban) करने से भयानक से भयानक रोग जिसका उपचार नहीं मिल रहा हो, उसे भी दूर करने में मदद मिलती है. साथ ही बजरंग बाण का सच्चे दिल से पाठ करने से शत्रुओं का भी विनाश हो जाता है. लेकिन इस दौरान साफ-सफाई, पवित्रता और अपने आचरण को बेहतर बनाकर रखें.

3. हनुमान बाहुक का पाठ

अगर किसी मरीज को गठिया, वात, सिरदर्द, कंठ रोग, जोड़ों का दर्द आदि परेशानियों हो तो हनुमान बाहुक (Hanuman Bahuk) का पाठ करें. इसकी रचना गोस्वामी तुलसीदास जी ने की थी. हनुमान जी की कृपा से शरीर की समस्त पीड़ाओं से मुक्ति मिल सकती है.

Check Also

इस बार बुद्ध पूर्णिमा है बेहद खास, पहले चंद्र ग्रहण के साथ बनेंगे दो शुभ योग, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व

इस बार वैशाख मास की पूर्णिमा तिथि 26 मई को पड़ रही है. इसे बुद्ध ...