Home / वायरल न्यूज़ / Fact Check: क्या नाक में नींबू का रस डालने से खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? जानें सच्चाई

Fact Check: क्या नाक में नींबू का रस डालने से खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? जानें सच्चाई

कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के बीच रोजाना सोशल मीडिया पर घरेलू नुस्खों की पोस्ट वायरल हो रही है. किसी में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने का दावा किया जा रहा है तो किसी में कोरोना वायरस को मारने का. ऐसा ही एक दावा अब नींबू के रस को लेकर किया जा रहा है. क्या है इस दावे की सच्चाई, यहां जानें.

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus pandemic) जिस तेजी से भारत में रोजाना लाखों लोगों को संक्रमित कर रही है और रोजाना हजारों लोगों की मौत हो रही है, उसे देखते हुए बड़ी संख्या में लोगों में डर का माहौल है. हर कोई इस वक्त बस यही चाहता है कि वह किसी तरह इस वायरस से बचा रहे (Ways to stay protected from virus). ऐसे समय में सोशल मीडिया पर तरह-तरह के घरेलू नुस्खे भी वायरल (Viral home remedies) हो रहे हैं जिसमें शरीर में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ाने से लेकर कोरोना वायरस को मारने तक का नुस्खा बताया जा रहा है.

क्या नींबू की दो बूंद से खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

हालांकि जरूरी नहीं हर नुस्खा आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हो. कई बार बिना जांचे परखे इस्तेमाल की गई घरेलू चीजें भी सेहत के लिए खतरनाक या कई बार जानलेवा भी साबित हो सकती हैं. ऐसा ही एक दावा इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है जिसमें नींबू के रस की दो बूंद नाक में डालने से (Lemon juice) कोरोना वायरस को खत्म करने की बात कही जा रही है. दरअसल, ये एक वीडियो है जिसमें एक शख्य यह दावा कर रहा है कि नींबू के रस की 2-3 बूंदें नाक में डालने से कोरोना वायरस को खत्म किया जा सकता है (Claims of killing coronavirus) और यह एक रामबाण नुस्खा है.

पीआईबी के फैक्ट चेट में फर्जी निकला यह दावा

लेकिन अब PIB की तरफ से इस वायरल पोस्ट की सच्चाई बताई गई है. पीआईबी ने इस वायरल वीडियो को पूरी तरह से फर्जी बताया है (Viral video is fake). पीआईबी की मानें तो ऐसा कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है जो ये साबित कर पाए कि नाक में नींबू का रस डालने से कोरोना वायरस खत्म हो जाता है.

वायरस के साथ-साथ इन फर्जी दावों से भी बचने की जरूरत

इससे पहले भी इस तरह के कई नुस्खों और दावों की हकीकत सामने ला चुका है पीआईबी फैक्ट चेक. कुछ समय पहले शरीर का ऑक्सीजन लेवल कम होने पर (Low level of oxygen) अजवाइन, कपूर, लौंग और नीलगिरी के तेल की पोटली बनाकर उसे सूंघने की सलाह दी जा रही थी और पीआईबी के फैक्ट चेक में ये दावा भी फर्जी साबित हुआ था. कुल मिलाकर देखें तो आपको अपनी सेहत बनाए रखने के साथ ही इस तरह के फर्जी दावों से भी बचने की जरूरत है.

(नोट: किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक से परामर्श करें. newsindialive.in इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

Check Also

गहराइयों में हैं सूर्य के सौर पवन के कण मौजूद

लंदन : वैज्ञा‎निकों को ऐसे प्रमाण मिले हैं जिनसे पता चला है कि पृथ्वी के ...