Home / धर्म / Chhath Puja 2020 Kharna: खरना के प्रसाद के बारे में ये खास बातें जानते हैं आप

Chhath Puja 2020 Kharna: खरना के प्रसाद के बारे में ये खास बातें जानते हैं आप

भगवान भास्कर की आराधना में पूरी राजधानी भक्तिमय हो गई है। बुधवार को व्रतियों ने नहाय खाय संग चार दिवसीय महापर्व का अनुष्ठान शुरू किया। धर्माचार्यों और चिकित्सकों ने छठ महापर्व में खरना के प्रसाद का बड़ा महत्व बताया है। इसलिए धार्मिक और वैज्ञानिक कारणों से इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। खरना का प्रसाद ग्रहण करने वालों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इस वजह से इसे व्रती भगवान को अर्पित कर खुद भी ग्रहण करते हैं और वितरित करते हैं।

खरना के प्रसाद के रूप में व्रती गाय के शुद्ध दूध और गुड़ में पका हुआ अरवा चावल की खीर और गेहूं के आटे की रोटी ग्रहण करते हैं। इसे पकाने के दौरान भी आम की लकड़ी और गोबर के उपले (गोइठा) जैसी प्राकृतिक चीजों का उपयोग करते हैं। आचार्य राजनाथ झा बताते हैं कि खरना का प्रसाद ग्रहण करने के बाद व्रतियों का निर्जला उपवास शुरू हो जाता है जो अगले 36 घंटे तक होता है।

यह प्रसाद व्रतियों में उदारता, संयम, संकल्पों की दृढ़ता, तेजस्विता जैसे सदगुणों के साथ साथ ऊर्जा का संचार करता है। आचार्य झा बताते हैं कि कोई भी बड़ा व्रत धारण करने से पहले व्रतियों के एकभुक्त की परंपरा रही है।  एकभुक्त यानी एक समय प्रसाद ग्रहण।

तीज, जिवितपुत्रिका जैसे व्रतों में भी ऐसा होता है। एकभुक्त होने के बाद 24 घंटे का उपवास शुरू होता है। छठ में इसकी महत्ता और भी बढ़ जाती है। आचार्य राजनाथ झा कहते हैं कि भगवान भास्कर को खीर अतिशय पसंद है। चूकि वे चराचर जगत के नाथ हैं और वे अपने दिव्य प्रकाश से ब्रहमांड को प्रकाशित और ऊर्जान्वित करते हैं। खरना में जो कुछ भी सेवन होता है वह भगवान भास्कर के प्रकाश से ही प्राप्त होता है।

खरना में क्षीर भोजन का पौराणिक महत्व बढ़ जाता है। शास्त्रों में भी कहा गया है अमृतं क्षीर भोजनम् यानी खीर का सेवन अमृत का सेवन है। यह गौ दुग्ध से बनता है और गौ में समस्त देवी देवताओं का वास होता है। गोबर के उपले और आम की लकड़ी पर इसे पकाते हैं। खरना के प्रसाद के लिए खीर और रोटी बनाने के लिए प्राकृतिक और जैविक सामाग्री का इस्तेमाल करने से इसमें दिव्यता आती है जिससे व्रतियों को उपवास के दौरान सकारात्मक ऊर्जा का मिलती रहती है। यह सुपाच्य होने के साथ साथ आचार्य झा बताते हैं कि त्रेता युग में पुत्रकामेष्टि यज्ञ में राजा दशरथ की तीनों पत्नियों ने याज्ञिक खीर को ग्रहण किया था। इस खीर की दिव्यता का प्रभाव ऐसा था कि राजा दशरथ की रानियों ने भगवान राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न   जैसे पुत्रों को प्राप्त किया।

Check Also

इस तारीख को लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, भूल कर भी न करें यह कार्य

नई दिल्ली।  बीते 30 नवंबर को चंद्र ग्रहण बीतने के बाद अब इस साल का ...