Home / धर्म / Chhath Puja 2020: आज से शुरू हो रहा आस्था का महापर्व, छठ पर बनती हैं ये स्पेशल चीजें

Chhath Puja 2020: आज से शुरू हो रहा आस्था का महापर्व, छठ पर बनती हैं ये स्पेशल चीजें

छठ का त्योहार 18 नवंबर यानी आज से शुरू हो रहा है. छठ का त्योहार उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार में  मुख्य रूप से मनाया जाता है. इस खास दिन पर भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. छठ का व्रत बहुत कठिन होता है. नहाय – खाय के साथ इसकी शुरुआत होती है. छठ पूजा में बहुत से पकवान बनाए जाते हैं. आइए आपको बताते हैं कि छठ के अवसर पर किन- किन चीजों को बनाया जाता है.

ठेकुआ

ठेकुआ (Thekua) को खुजरिया या थिकारी भी कहा जाता है. छठ पूजा के अवसर पर छठी मईयां को प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है. ठेकुआ बनाने के लिए घी, मेवे और गेंहू का आटा चाहिए होता है.

ठेकुआ की सामग्री

गेंहू का आटा- 3 कप

गुड़- 4/4 कप

नारियल 1/4 कद्दूकस किया हुआ

घी और 6 इलायची चाहिए.

ठेकुआ बनाने की विधि

ठेकुआ बनाने के लिए सबसे पहले गुड़ को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ ले.

कुछ समय बाद सारा गुड़ पानी में अच्छे से घुल जाएगा.

गुड़ घुल जाने के बाद पानी में से अच्छे से छान लें.

एक बर्तन में आटा, कद्दूकस हुआ नारियल, घी और इलायची डालें.

गुड़ के घोल की मदद से सख्त और सूखा आटा गूंथ कर तैयार कर लें.

इसके बाद आटे की लोइया बना लें और एक- एक कर लोई को ठेकुए के सांचे की मदद से तैयार कर लें.

इसके बाद सभी ठेकुआ को मीडियम आंच पर घी में तेल डालकर तल लें.

पूरी

छठ पूजा में गेंहू के आटे की पूरियां बनती है जिसे शुद्ध देसी घी में तला जाता है. पूरी को अलग-अलग सब्जियों के साथ खाया जाता है.

कद्दू की सब्जी

कद्दू की सब्जी बेहद लोकप्रिय मानी जाती है. ऐसी मान्यता है कि व्रत करने के बाद सबसे पहली यही सब्जी का सेवन करते हैं.

हरा चना

छठ के अवसर पर हरा चना तैयार किया जाता है. इसे रात भर पानी में भिगो कतर अगले दिन घी, जीरा और हरी मिर्च के साथ फ्राई किया जाता है.

गुड़ की खीर

छठ के मौके पर गुड़ की खीर बनाने का अलग ही महत्व है. इसे चावल ,दूध और गुड़ के साथ बनाया जाता है. गुड़ की खीर को सूर्य भगवान को अर्पित करने के बाद  ही सेवन किया जाता है.

चावल के लड्डू

छठ पर चावल के लड्डू बनाएं जाते हैं. इस चावल के आटे, गुड़, काली मिर्च, मेवे के साथ मिलकर बनाया जाता है. चावल के लड्डू छठी मईया को भोग के रूप में लगाया जाता है.

Check Also

ऐसी स्त्रियों के कारण घर में कभी नहीं आती ख़ुशी, कहा जाता है कुलक्षिणी

प्रकृति की अनमोल रचना है स्त्री, जो ममता, कोमलता, सौम्यता आदि सभी गुणों से भरपूर ...