Home / मनोरंजन / Chhath 2020: सिया राम की छठ मनाने आने वाले हैं रामायण के रामचन्द्र-सीता

Chhath 2020: सिया राम की छठ मनाने आने वाले हैं रामायण के रामचन्द्र-सीता

लोक आस्था का महापर्व छठ (Chhath Puja) शुरू हो चुका है. भोजपुरी संस्कृति के इस मंगलमय त्यौहार को पूरे देश भर में उत्साह और उमंग के साथ मनाया जा रहा है. भोजपुरी टीवी चैनल बिग गंगा ने ही ने क्षेत्र के सबसे बड़े त्योहार को मानाने के लिए,‘‘जय छठी माई’ कार्यक्रम का आयोजन किया है. इस रंगारंग कार्यक्रम के माध्यम से चैनल ‘सिया राम की छठ’ काफी बड़े पैमाने पर मानाने वाला हैं.

रामायण के राम सीता की जोड़ी यानि एक्ट्रेस दीपिका चिखलिया और एक्टर अरुण गोविल इस संगीत और नाट्य से सजी इस खूबसूरत शाम की शोभा बढ़ाने वाले हैं.
इस जश्न में सिया राम के गंगा घाट पर छठ अनुष्ठान करने और उन्हें छठी माता का आशीर्वाद मिलने वाले सबसे अनोखे क्षण को नाट्य रूप में दर्शकों के सामने प्रदर्शित किया जाएगा. अरुण गोविल और दीपिका चिखलिया की उपस्थिति में होने वाले इस जश्न में दीपिका स्वयं सीता के रूप में इस विलक्षण नाट्य में हिस्सा लेती हुई नज़र आएंगी. इसके अलावा निरहुआ, अक्षरा सिंह, कल्लू, शुभी शर्मा इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले हैं.

कहा जाता हैं मिथिला पुत्री माता सीता ने सर्वप्रथम पहला छठ पूजन बिहार के मुंगेर में गंगा तट पर संपन्न किया था. इसके बाद से इस पवन महापर्व की शुरुआत हुई थी. इसके प्रमाण-स्वरूप आज भी वहां माता सीता के पद चिह्न मौजूद हैं. वाल्मीकी रामायण की मानें तो, वाल्मीकि रामायण के सन्दर्भ अनुसार, ऐतिहासिक नगरी मुंगेर में जहां सीता मां के चरण चिह्न है, वहां रह कर उन्होंने 6 दिनों तक छठ पूजा की थी. श्री राम जब 14 वर्ष वनवास के बाद अयोध्या लौटे, तब रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए ऋषि-मुनियों के आदेश पर उन्होंने राजसूय यज्ञ करने का फैसला लिया. इसके लिए मुग्दल ऋषि को आमंत्रण दिया गया था, लेकिन मुग्दल ऋषि ने भगवान राम एवं सीता को अपने ही आश्रम में आने का आदेश दिया. ऋषि की आज्ञा का पालन करते हुए भगवान राम और माता सीता स्वयं वहां गए और उन्हें इसकी पूजा के बारे में बताया गया.

मुग्दल ऋषि के कहने पर माता सीता ने 6 दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी. ऐसी मान्यता है कि माता सीता ने जहां छठ पूजा संपन्न की थी, वहां आज भी उनके पदचिह्न मौजूद हैं. लोगों ने वहां पर जो मंदिर का निर्माण किया हैं वो सीताचरण मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है. यह मंदिर हर वर्ष गंगा की बाढ़ में डूबता है. महीनों तक माता सीता के पदचिह्न वाला पत्थर गंगा के पानी में डूबा रहता है.इसके बावजूद वो धूमिल नहीं पड़े हैं

बिग मैजिक स्वरा ‘सिया राम की छठ’ का अध्याय मनमोहक नाट्य के रूप में संगीत के साथ उनके कार्यक्रम ‘जय छठी मैया’ में काफी शानदार और भव्य दिव्य स्वरुप में दर्शकों को देखने मिलने वाला हैं.

Check Also

वरुण-सारा की ‘कुली नंबर-1’ का ट्रेलर आते ही सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे Meme

वरुण धवन (Varun Dhawan) और सारा अली खान (Sara Ali Khan) की मूवी ‘कुली नंबर-1’ ...