Home / मनोरंजन / Birth Anniversary : करियर के ऊंचे मुकाम पर परवीन बाबी ने किया था महेश भट्ट से प्यार, फिर जानें कैसे और क्यों हुआ इस लव स्टोरी का दर्दनाक अंत

Birth Anniversary : करियर के ऊंचे मुकाम पर परवीन बाबी ने किया था महेश भट्ट से प्यार, फिर जानें कैसे और क्यों हुआ इस लव स्टोरी का दर्दनाक अंत

70 और 80 के दशक में लोगों के दिलों में राज करने वालीं परवीन बाबी(Parveen Babi) की आज बर्थ एनिवर्सरी है. परवीन अपने समय की खूबसूरत और बोल्ड एक्ट्रेस थीं. बड़े पर्दे पर उन्हें देखने के लिए थिएटर्स में लाइन लग जाती थीं. परवीन कई दिलों में राज करती थीं, लेकिन उनके दिल में एक इंसान ने घर कर लिया था और वो शख्स और कोई नहीं बल्कि महेश भट्ट थे. परवीन और महेश की लव स्टोरी के बारे में कई लोग जानते होंगे, लेकिन कैसे इस स्टोरी का अंत हुआ ये शायद ही ज्यादा लोगों को पता होगा. तो आज परवीन की बर्थ एनिवर्सरी पर बताते हैं इस अधूरी लव स्टोरी के बारे में.

परवीन जब अपने करियर के ऊंचे मुकाम पर थीं तब उन्हें महेश भट्ट से प्यार हो गया था. दोनों की लव स्टोरी की शुरुआत 1977 में हुईं. महेश उस समय शादीशुदा थे, लेकिन फिर भी वह परवीन के साथ उस समय लिव इन रिलेशनशिप में थे. परवीन उस वक्त फिल्म अमर, अकबर, एंथनी की शूटिंग कर रही थीं. सब कुछ सही था, वह अपना स्टारडम एंजॉय कर रही थीं और घर पर वह महेश के साथ एक आम लड़की की तरह थीं जो उनसे बहुत प्यार करती थीं. लेकिन परवीन की जिंदगी के ये अच्छे पल ज्यादा समय नहीं रहे.

रिपोर्ट्स के मुताबिक 1979 की एक शाम महेश भट्ट जब घर आए तो उन्होंने परवीन को एक फिल्म के कॉस्ट्यूम में देखा जो घर के एक कोने में बैठी थीं और उनके हाथों में चाकू था और कह रही थीं कि कुछ मत बोलो, वो लोग मुझे मार देंगे. ये पहली बार था जब महेश ने परवीन की ऐसी हालत देखी थी. इसके बाद परवीन को ऐसे अटैक आने लगे थे. ऐसा कहा जाता है कि परवीन पैरानॉइड स्किटसफ्रीनिया नाम की बीमारी से जूझ रही थीं. परवीन का काम रुक गया था और उनका इलाज शुरू हो गया था. कबीर बेदी जो परवीन बाबी के एक्स थे उन्होंने महेश भट्ट को कुछ हॉस्पिटल के बारे में बताया जहां एक्ट्रेस का इलाज हो सकता था. परवीन की हालत खराब होती जा रही थी. वह बार-बार कहती थीं कि कोई उन्हें मारना चाहता है.

महेश भट्ट हुए दूर

रिपोर्ट्स के मुताबिक जब महेश भट्ट को कोई ऑप्शन नहीं मिला तो वह परवीन को लेकर बेंगलुरु आ गए. उन्हें लगा कि इससे परवीन की हालत में सुधार आएगा, लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो उसी साल महेश, परवीन को छोड़कर अपनी पहली पत्नी के पास चले गए. परवीन के जो बेंगलुरु में फिलॉसफर थे उन्होंने महेश को एक्ट्रेस से दूर रहने को कहा. उनका कहना था कि महेश का परवीन के पास रहने से एक्ट्रेस की हालत और खराब हो रही है. इस दौरान फिर महेश अपनी फिल्म अर्थ की स्टोरी लिखने लगे. ऐसा कहा जाता है कि ये फिल्म उनकी अपनी लाइफ से इंस्पायर है. इसके बाद परवीन भी अपना ट्रीटमेंट पूरा किए बिना वहां से चली गईं.

जब हुआ कहानी का अंत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ‘एक दिन जब महेश और परवीन साथ में पर्सनल टाइम स्पेंड कर रहे थे तब परवीन ने उनसे कहा कि उन्हें एक्ट्रेस और फिलॉसफर में से किसी एक को चुनना होगा क्योंकि फिलॉसफर ने परवीन की हालत देखकर उन्हें एक्टिंग की दुनिया में जाने से मना किया था और इस वजह से परवीन उन्हें पसंद नहीं करती थीं. महेश ने फिर परवीन की इस बात का कोई जवाब नहीं दिया और वह वहां से देर रात चले गए. परवीन भी बिना कुछ सोचे उसी हालत में उनके पीछे भागीं. लेकिन महेश ने ना उस वक्त पीछे देखा और ना ही वह वापस आए और ऐसे इस कहानी का अंत हो गया.

2005 में महेश भट्ट को कई मैसेज आने के बाद पता चला कि परवीन का निधन हो गया है. जब महेश को पता चला कि उनके परिवार से कोई भी बॉडी को क्लेम करने नहीं आया तब वह उनका अंतिम संस्कार करने आए. महेश का कहना है कि उनकी सक्सेस के पीछे आज भी परवीन का ही हाथ है.

Check Also

National Pet Day:अमिताभ बच्चन से लेकर सलमान खान तक, महंगे पालतू जानवरों के मालिक हैं ये बॉलीवुड सेलेब्स

बॉलीवुड सेलेब्स हमेशा से ही अपनी महंगी और लग्जरी लाइफस्टाइल के चलते सुर्खियों में रहते ...