Home / मनोरंजन / स्वरा भास्कर को दंगों की असली फोटो को फ़र्ज़ी बताना पड़ गया महंगा

स्वरा भास्कर को दंगों की असली फोटो को फ़र्ज़ी बताना पड़ गया महंगा

Swara Bhaskar photoshop Matter: बिना जानकारी के किसी चीज को सही या गलत कहना कई बार आपको मुसीबत में डाल देता है. ऐसा ही हुआ बॉलीवुड की स्वरा भास्कर के साथ, स्वरा भास्कर JNU विवाद के बाद से ही सुर्ख़ियों का हिस्सा रही हैं. मोदी सरकार की आलोचना हो या फिर कन्हैया कुमार के लिए चुनाव प्रचार स्वरा भास्कर ने अपनी राय पूरी बेबाकी के साथ रखी.

किसी के प्रति राय रखना आपकी आज़ाद सोच का एक जीता जागता सबूत हैं, लेकिन क्या हो जब आप किसी ऐसी चीज को लेकर अपनी राय बना लें और दुनिया को अपनी वह राय बताना भी शुरू कर दें जिसकी आपको खुद को सच्चाई न पता हो. दरअसल स्वरा भास्कर ने भारत में 2012 में हुए दंगों की एक तस्वीर को जाली बता दिया.

स्वरा भास्कर ने एक व्यक्ति के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा ‘घटिया फोटोशॉप’ जबकि यह फोटो 2012 की है जिसमें कुछ मुस्लिम युवा अमर जवान ज्योति को तहस-नहस करते दिखाई दे रहें हैं. यह बिलकुल असल तस्वीर थी, यह मुंबई में आजाद मैदान में 11 अगस्त 2012 को हुए एक दंगे की है, इन दंगों की असल वजह बोडो समुदाय और बंगाली मुस्लिमों में बड़ रहा तनाव था.

जिस युवक ने 2012 की इस फोटो को शेयर किया था उसने कैप्शन में लिखा था की, “जिस दिन तुमने अमर जवान ज्योति को लात मारी थी, तभी से मैं मुस्लिमों से नफरत करने लगा था.” आपको शायद पता न हो लेकिन यह अमर जवान ज्योति स्मारक, 1857 की लड़ाई में शामिल स्वतंत्रता सेनानियों की याद में बनाया गया था.

इस तस्वीर को फोटोशॉप बताने पर स्वरा भास्कर को लोगों ने जमकर क्लास लगाई, लोगों का कहना था की स्वरा भास्कर किसी अजेंडे के तहत यह सब काम कर रही हैं. स्वरा इससे पहले भी कई ऐसे मामलों पर लोगों की बातों का शिकार हुई हैं. सोशल मीडिया पर की अपनी इस गलती का स्वरा भास्कर को जल्द ही एहसास हो गया और उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए लोगों से अपनी गलती की माफ़ी भी मांगी.

Check Also

Brawl: मालदीव्स में छुट्टियां मना रहे स्टार्स पर निखिल द्विवेदी बोले- वह हर्टलेस नहीं बेवकूफ हैं….

कोरोना महामारी के कारण कुछ महीनों के लॉकडाउन से फिल्म स्टार्स इतने तंग आ गए ...