Home / हेल्थ-फिटनेस / सांप के काटने पर तुरंत करें ये एक उपाय, जिससे बच सकती है किसी की जिंदगी

सांप के काटने पर तुरंत करें ये एक उपाय, जिससे बच सकती है किसी की जिंदगी

आजकल सापो के काटने की ज्यादा ही खबरे सामने आ रही है। और इसकी जानकारी के आभाव में लोग अपने जीवन से हाथ धो बैठते है। सांप के दो दांत होतें हैं जो कि सांप के मुख में ऊपर की ओर होतें हैं। जब भी इंशान को सांप काटता है तो वही ऊपर का दांत शरीर के मांस में धंस जाता है। और सांप खून में अपना जहर छोड़ देता है। दोस्तों हम आपको एक बात स्पस्ट कर देतें हैं कि अगर सांप आपके शरीर मे कही भी काटता है चाहे वह ऊपर की तरह हो या फिर नीचे की तरह। जहर सबसे पहले हार्ट अर्थात दिल की तरफ सबसे पहले जाता है। उसके बाद खून के माध्यम से पूरे शरीर मे फैलता है।

इस क्रिया को होने में तीन घण्टे का समय लगता है। मतलब यह है कि जहर को पूरे शरीर तक पहुंचने में तीन घण्टे का समय लगता है। अर्थात आदमी को तीन घण्टे तक कुछ नही होगा वह जीवित अवस्था मे रहेगा। जब जहर आदमी के पूरे शरीर मे फैलता है तभी आदमी की डेथ होती है। अन्यथा उसकी डेथ नही होगी। दोस्तों आपके पास रोगी को बचाने के लिए तीन घण्टे का समय होता है। आप इन तीन घण्टे में रोग को बचा सकतें हैं। इसके लिए नीचे दिए गए उपचार को ध्यान से पढ़िए।

कौन सी मेडिसिन लेनी चाहिए 

एक मेडिसिन आती है आप उस मेडिसिन को होमियोपैथी की दुकान से खरीद सकतें हैं। होम्योपैथीक के दुकान पर आसानी से मिल जाएगी। जिस मेडीसिन का नाम Naza है। आप होमियोपैथीक की दुकान पर जाएं और उससे कहिए कि मुझे नाजा-200 or Naza-200 दे दो। वह आपको तुरन्त दे देगा। इसकी 5 मिलीलीटर का दाम 50 रुपये होती है आप 50 रुपये में हजारों की जान बचा सकतें हैं।

नाजा-200 मेडिसिन कैसी बनी 

नाजा मेडिसिन दुनिया के सबसे खतरनाक सांप का पॉयजन है। इस पॉयजन को दुनिया का सबसे खराब पॉयजन माना जाता है। जिस सांप से यह पॉयजन नाजा मेडिसिन बना हैं। अगर यह सांप किसी को काट ले तो भगवान भी उसे नही बचा सकतें तो आप सोच के देखिये की यह पॉयजन कितना जहरीला होगा। दोस्तों हम सब के बीच एक कहावत प्रचलित है कि लोहा को लोहा ही काटता है आयुर्वेद सिंद्धांत यह है कि जब एक सांप का जहर शरीर के अंदर चला जाता है तो दूसरे सांप जहर ही काम आता है। इसीलिए आप इस नाजा-200 को अपने घर मे रख लीजिए क्योकि यह दुनिया के सबसे खतरनाक सांप का जहर है।

दवा लेने की विधि- 

नाजा-200 की एक बूंद हर 10 मिनट बाद रोगी के जीभ पर डालें। साधारण भाषा में- पहले 1 बूंद रोगी के जीभ पर डालें,10 मिनट बाद फिर एक बूंद जीभ पर डाले,10 मिनट बाद फिर एक बूंद जीभ पर डाले। आपको सिर्फ 3 बार ही डालना है। बस रोगी की जान बचाने के लिए 3 बूंद काफी है। आप इस उपाय से पीड़ित की जान बचा सकतें हैं।

होम्योपैथी में जो सांप के काटने पर देने वाली जो इंजेक्शन आती है। वह हर अस्पतालों में नही मिल पाता। डॉक्टर आपको कहेगा यहां ले जाओ वहां ले जाओ, तमाम बातें करेगा। और जो ये इंजेक्शन आती है इसकी कीमत लगभग 10 से 15 हजार होती है। जहां ये इंजेक्शन उपलब्ध होती है वहाँ डॉक्टर क्या करता है जानते हो। मरीज को होमिओपेथी वाली यही इंजेक्शन 10 से 15 यहीं इंजेक्शन लगा देता है। मतलब की आपको जहां नाजा-200 दवा से आपको 50rs खर्च होने वाला था। वही आपको डेढ़ लाख से दो लाख को चुना लग गया। मैं गांरटी लेता हूँ कि यह नाजा-200 दवा इंजेक्शन से 100 गुना अच्छा है।

इस बात को ध्यान में रखिये। अगर आपके आस-पास या फिर आपको सांप काटे तो मौके पर अगर नाजा-200 घर मे उपलब्ध न हो तो फटाफट घर पर ही प्राथमिक उपचार करें। जैसे कि किसी ब्लेड से सांप के काटे हुए स्थान को काट कर सारा जहर निकाल दें। ओर मरीज को ठंडी हवा दें। उसके सामने शोरगुल न मचायें। और अपने किसी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर तुरंत लेकर जाएं। और डॉक्टर से वही होमियोपैथी वाला इंजेक्शन लगवाने को कहें जो कि 15 हजार रुपये का एक आता है।

Check Also

हार्ट अटैक का संकेत हो सकते हैं महिलाओं में दिखने वाले ये लक्षण, रहें सतर्क

दुनियाभर में देखा जा रहा हैं कि एक बड़ी आबादी हृदय रोग का सामना कर ...