Home / धर्म / सभी के लिए काम की बात : अगर जीना चाहते है खुशहाल जिंदगी, तो छोड़ दे ये बुरी आदते

सभी के लिए काम की बात : अगर जीना चाहते है खुशहाल जिंदगी, तो छोड़ दे ये बुरी आदते

ज्योतिष शास्त्र, वास्तु शास्त्र, सामुद्रिक शास्त्र, ऐसी ही कुछ विधाएं हैं जिनके प्रयोग से हम जीवन में आ रहे संकटों के रुख मोड़ सकते हैं। तकलीफ होने पर लोग इन शास्त्रीय उपायों का प्रयोग करते हैं। लेकिन आज जो हम आपको बताने जा रहे उसे जानने के बाद आप भी इन कामो को करने से पहले हज़ार बार सोचेंगे और कभी करने  के बारे में सोचेंगे भी नहीं  क्योंकी अगर ये काम आप करने का सोचे भी तो एक बार जरुर सोच ले आपके साथ क्या हो सकता है।

मनुष्य की कुछ आदते ऐसी होती है जो हमे सामान्य नजर आती है लेकिन वे आदते कई बार मौत का कारण बनती है, यह आदते ही मनुष्य की असमय मौत का कारण बनती है, यही वजह है की जाने अनजाने में की गयी ऐसी गलतिया कई लोगो की कम उम्र में ही मृत्यु का कारण बनती है, इसलिए इन आदतों को जितना जल्दी हो सके छोड़ देना चाहिए |

आज हम आपको ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में बतायेगे |

पुराणों और शास्त्रों में बताया गया है की जो इंसान लालची, बेईमान,कपटी होता है और जो इंसान हर बात पर झूठ का सहारा लेता है, लोगो के साथ धोखाधड़ी करता है दुसरो का फायदा उठता है ऐसा इंसान असामयिक मौत का भागी बनता है, इसीलिए अपने जीवन में ऐसी चीजे नहीं अपनानी चाहिए जिनसे दूसरी जीवात्मा को ठेस पहुंचे नुकसान पहुंचे |

आपने नाख़ून चबाते हुए कई लोगो को देखा होगा, इसे बहुत ही बुरी आदत माना गया है, ऐसी आदत शनि के कोप का भागी भी बना सकती है, इसलिए अपने आस पास भी हमेशा साफ़ सफाई रखनी चाहिए, गंदी जगह या स्थानों पर कभी देवी देवता का निवास नहीं होता है |

हिन्दू धर्म के पुराण महाभारत के एक अध्याय “अनुशासन पर्व ” के अनुसार युधिष्टर को पितामह भीष्म में धर्म और कर्म से संबंधित ज्ञान प्रदान किया था, जिसमे उन्होंने बताया था की अध्ययन करते समय किसी भी प्रकार की वस्तु का सेवन नहीं करना चाहिए ऐसा करने से माँ सरस्वती रुष्ट हो सकती है और यम भी नाराज हो सकते है, इसलिए अध्ययन के समय कुछ भी खाना असमय मौत का कारण बन सकता है, अतः पढ़ते समय खाने से बचना चाहिए |

मान्यता के अनुसार कभी भी आकाश में चढ़े हुए सूर्य को नहीं देखना चाहिए ऐसा करने से उम्र घटती है और ऐसा करने से यम देवता भी नाराज हो सकते है |

हिन्दू धर्म में बचपन से ही भोजन का सम्मान करना सिखाया गया है, इसिलए कभी भी भोजन करते समय बीच में नहीं उठना चाहिए और भोजन को जूठा नहीं छोड़ना चाहिए और भोजन करने से पहले हाथ अवश्य धोने चाहिए, हाथ धोये बिना भोजन को छूना पाप के समान है ऐसा करने से भोजन का अपमान होता है

हिन्दू धर्म में मंगलवार और शनिवार को नाख़ून काटना और बाल काटना पाप माना गया है, साथ ही मास मच्छी का सेवन और मदिरा पान भी वर्जित है, इसलिए ऐसा कभी भी नहीं करना चाहिए ऐसी स्थिति से हमेशा बचना चाहिए |

Check Also

इस तारीख को लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, भूल कर भी न करें यह कार्य

नई दिल्ली।  बीते 30 नवंबर को चंद्र ग्रहण बीतने के बाद अब इस साल का ...