Home / हेल्थ-फिटनेस / ये कैसा अस्पताल है जहाँ दवा के बदले मरीज़ों को हुक्का पिलाया जाता है

ये कैसा अस्पताल है जहाँ दवा के बदले मरीज़ों को हुक्का पिलाया जाता है

हुक्के से इलाज – हुक्का का नाम सुना है आपने कभी. गाँव में पहले बूढ़े लोग हुक्का पीते थे.

उसमें अजीब सी आवाज़ आती थी. गाँव तो बहुत पीछे छूट गया अब. अब तो ये हुक्का गाँव से चलकर शहरों में आ गया है. शहरों के बूढ़े नहीं बल्कि जवान लोग अब हुक्के में मस्त रहते हैं. बड़े बड़े महानरों में हुक्का पार्लर होता है.

इन हुक्का पार्लर में संगीत बजता रहता है और जवान दिल हुक्का पीते रहते हैं. हुक्का पार्लर तक तो ठीक था, लेकिन अब एक ऐसा हॉस्पिटल है जो मरीजों को दवा के बदले हुक्का पिला रहा है. हुक्के से इलाज हो रहा है.

सिगरेट से भी ज्यादा खतरनाक होता है हुक्का, लेकिन ये अस्पताल न जानें क्यों यहाँ आने वाले मरीजों को हुक्का पिला रहा है.

कहाँ है ये हॉस्पिटल. यह अस्पताल मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित है. इसका नाम “शासकीय स्वशासी धन्वंतरि आयुर्वेदिक महाविद्यालय” है. यहां पर रोगियों को स्वस्थ करने के लिए हुक्के से इलाज होता है. हुक्के का सेवन कराया जाता है. इस अस्पताल का प्रशासन ऐसा मानता है कि हुक्के का सेवन करने से मरीजों की बीमारियां सही हो जाती हैं. आपको बड़ा अजीब लग रहा होगा सुनकर. भला हुक्का पीने से कैसे कोई ठीक हो सकता है.

आपके मन में भी यही सवाल उठ रहा होगा कि भला हुक्का पीने से कोई ठीक कैसे हो सकता है, लेकिन ये सच है, तभी तो यहाँ के हॉस्पिटल में मरीजों को हुक्का पिलाया जाता है. हुक्के से इलाज किया जा रहा है.

ये कोई आम हुक्का नहीं होता.  इस अस्पताल में मरीजों को तंबाकू वाला हुक्का नहीं दिया जाता बल्कि एक विशेष हुक्का बनाकर दिया जाता है. इस विशेष हुक्के में तंबाकू नहीं बल्कि आयुर्वेदिक औषधियों का चूर्ण भरा जाता है. इस हुक्के के सेवन से मरीज जल्दी ही स्वस्थ हो जाते हैं. तो अब आपको समझ में आ गया होगा कि इलाज करने का ये सही और अनोखा तरीका है. इस तरह से मरीज़ ठीक भी हो जाते हैं.

यहाँ अस्पताल देश के अलग अलग हिस्सों से रोगी आते हैं और उन सभी को लाभ भी होता है. इस अस्पताल में दमा, जुकाम तथा फेफड़ो से सम्बंधित बीमारियां सही हो जाती हैं. इस प्रकार से देखा जाए तो यह अस्पताल काफी अनोखे तरीके से कार्य करता है तथा इस प्रकार से मरीजों को जल्दी ही आराम भी मिलता है. दरअसल उज्जैन के इस आयुर्वेदिक अस्पताल में अनोखे तरीके से मरीजों का इलाज किया जाता है. यह देश का पहला ऐसा हॉस्पिटल होगा जहाँ इस तरह से मरीजों का इलाज किया जाता है.

अपने आप में यह अस्पताल सच में अनोखा है.

देश में पहली बार उज्जैन के शासकीय धन्वतरी आर्युवेदिक अस्पताल में हुक्के से धुम्रपान करा कर मरीजों का इलाज किया जा रहा है. वही , अस्पताल का मानना है कि हुक्का पीने से कई लाइलाज बीमारियां ठीक हो जाती हैं. अब अगर आपको भी इस तरह की कोई बीमारी हो तो आप भी सीधे मध्य प्रदेश चले जाएं. यहाँ पर आपका हुक्के से इलाज भी हो जाएगा और आपको परेशानी भी नहीं होगी.

हुक्के से इलाज – तो देर किस बात कि आप भी अपने घर के बूढों का इलाज वहां करवा सकते हैं. इससे उनको बहुत आराम मिलेगा. पूरी तरह से आयुर्वेदिक इलाज करने के बाद इसका कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता.

Check Also

महिलाओं में बढ़ती यौन समस्या में मददगार साबित हो सकते हैं ये उपाय

एक महिला के लिए मां बनना सबसे सुखद एहसास होता है, लेकिन एक सर्वे के मुताबिक, ...