Home / वायरल न्यूज़ / मात्र 2 वर्ष की उम्र में चली गई थी आंखों की रौशनी, अपंगता को मात देकर पहले प्रयास में ही बने IAS अफसर

मात्र 2 वर्ष की उम्र में चली गई थी आंखों की रौशनी, अपंगता को मात देकर पहले प्रयास में ही बने IAS अफसर

राकेश शर्मा हरियाणा (Haryana) के भिवानी जिले में स्थित एक छोटे से गांव सांवड़ के निवासी हैं। दो साल की उम्र में एक दवा रिएक्शन की वजह से उनकी आँखो की रोशनी चली गई थी। इस हादसे के बाद बहुत से लोगों ने उनके परिवार को यह सलाह दी कि राकेश को आश्रम में डाल दें, परंतु परिवार ने ऐसा नहीं किया। राकेश के परिवार ने इस हादसे को बहुत धैर्य से लिया। उन्होंने कभी भी अपने हौसले को कम नहीं होने दिया और ना हीं राकेश को कमजोर पड़ने दिया। राकेश को बहुत से डॉक्टरों से दिखाया गया, बहुत दिनों तक इलाज भी हुआ परंतु उन सभी प्रयासों का कोई लाभ नहीं हुआ।

राकेश की पढ़ाई का सफर

राकेश की नेत्रहीनता की वजह से उन्हें सामान्य स्कूल में दाखिला नहीं मिला जिसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई स्पेशल स्कूल से की। बारहवीं तक स्पेशल स्कूल में पढ़ने के बाद राकेश आगे की पढाई के लिए दिल्ली (Delhi) चले गए और उन्होंने दिल्ली के विश्वविद्यालय में दाखिला ले लिया। राकेश बताते हैं कि विश्वविद्यालय में दाखिला लेने के बाद उनके जीवन की एक नई शुरूआत हुई।

विश्वविद्यालय से बढ़ा आत्मविश्वास

राकेश का मानना है कि विश्वविद्यालय में उनके आत्मविश्वास को काफी मजबूती मिली। वहाँ होने वाली एक्टिविटीज और शिक्षक व साथियों के प्रोत्साहन से राकेश को कुछ करने की हिम्मत मिली। राकेश ने विश्वविद्यालय से बी.ए और सोशल वर्क में मास्टर्स किया। उसके बाद राकेश ने आईएएस बनकर देश की सेवा करने का फैसला किया।

608 रैंक लाकर पास की UPSC की परीक्षा

राकेश आईएएस बन कर समाज में बदलाव लाना चाहते थे। वे यूपीएससी की परीक्षा देने को दृढ़ संकल्पित होकर उसकी तैयारी में लग गए। दिन-रात की गई कड़ी मेहनत से राकेश साल 2018 में अपने पहले ही प्रयास में 608 रैंक के साथ यूपीएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त की और आईएएस बन अपने सपने को पूरा किया। राकेश अपने सफलता का श्रेय अपने माता-पिता तथा अपने शिक्षकों को देते हैं, जिन्होंने इस सफर में उनका पूरा साथ दिया।

Check Also

कोका-कोला के लिए 6 उपयोग आप शायद नहीं जानते होंगे

कोका-कोला का उपयोग करने के लिए ब्राइट साइड 10 वैकल्पिक तरीके प्रदान करता है, जिनमें ...