Home / धर्म / धनतेरस : धन और आरोग्य से जुड़ा है यह त्योहार, दूर हो जाता है अकाल मृत्यु का भय

धनतेरस : धन और आरोग्य से जुड़ा है यह त्योहार, दूर हो जाता है अकाल मृत्यु का भय

कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार को धन एवं आरोग्य से जोड़कर देखा जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान धनवंतरी और मां लक्ष्मी का अवतरण समुद्र मंथन से हुआ। भगवान धनवंतरी देवताओं के वैद्य हैं। इनकी पूजा से आरोग्य प्राप्त होता है। इस दिन आरोग्य के देवता धनवंतरी, मृत्यु के अधिपति यम, धन संपदा की देवी मां लक्ष्मी तथा वैभव के स्वामी कुबेर की पूजा की जाती है।

धनतेरस को धनवंतरी त्रयोदशी भी कहा जाता है। धनतेरस के दिन यमदेव के लिए आटे से चार मुखी दीपक बनाएं फिर सरसों का तेल डालकर यह दीपक दक्षिण दिशा में रखें। इस दिन यमदेव की पूजा करने से अकाल मृत्यु का भय दूर हो जाता है। भगवान धनवंतरी की पूजा कर आरोग्य की कामना करें। मां लक्ष्मी की उपासना कर धन और समृद्धि की प्रार्थना करें। धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी और भगवान श्रीगणेश की मूर्ति खरीदें और दीपावली के दिन इन्हीं मूर्तियों का पूजन करें। धनतेरस के दिन स्टील और पीतल के बर्तन लिए जा सकते हैं।

मान्यता है कि धनतेरस के दिन जो भी पात्र खरीदा जाता है उस बर्तन की गहराई के 13 गुना फल प्राप्त होता है। धनतेरस पर स्वर्ण व चांदी की वस्तुएं खरीदना शुभ माना जाता है। इस दिन सफेद या लाल रंग के वस्त्र खरीदें। संपत्ति खरीदना इस दिन शुभ माना जाता है। इस दिन वाहन के लिए भुगतान करने से बचें। धार्मिक साहित्य या रुद्राक्ष की माला धनतेरस पर खरीदना शुभ माना जाता है। इस दिन औषधि भी खरीदी जा सकती है। धनतेरस पर झाड़ू खरीदना भी अच्छा माना जाता है। इससे नकारात्मक ऊर्जा घर से बाहर चली जाती है।

Check Also

आर्थिक राशिफल 30 नवंबर: आज के दिन कर्ज लेने से बचें, जानें इन 4 राशियों का राशिफल

Today Arthik Rashifal 30 November 2020: पंचांग के अनुसार 30 नवंबर को कार्तिक शुक्ल की पूर्णिमा ...