Home / वायरल न्यूज़ / जिसे भिखारी समझ धक्के देकर निकाला था बाहर, उसी ने खरीद ली 12 लाख की बाइक

जिसे भिखारी समझ धक्के देकर निकाला था बाहर, उसी ने खरीद ली 12 लाख की बाइक

अंग्रेजी में एक कहावत है never judge people by their appearance मतलब,  किसी-भी इंसान को देखकर हमें इस नतीजे पर नहीं पहुंच जाना चाहिए कि यह ऐसा ही होगा। अब इसी कहावत को चरितार्थ कर देने वाली खबर न्यूजीलैंड से सामने आई है। यह मसला अभी सोशल मीडिया पर चर्चा की वजह बना हुआ है। लोग इस पर अलग-अलग तरह से अपना रिएक्शन दे रहे हैं। दरअसल,  थाईलैंड में एक बुजुर्ग शख्स को उसके हुलिए को देखते हुए उसे भिखारी समझ लिया गया, जिसके चलते पहले तो उसके साथ बुरा सुलूक किया गया। फिर , इसके बाद उसे धक्के देकर बाहर तक निकाल दिया गया।

यह बुजुर्ग भी सब कुछ चुपचाप सहता रहा। कोई भी टीका-टिप्पणी न की, मगर जब इस बुजुर्ग ने 12 लाख की बाइक खऱीदने की  इच्छा जाहिरी की तो सभी के सभी अवाक रह गए। वहां मौजूदा लोगों को लगा कि यह मजाक कर रहा है। लोगों को ऐसा लग रहा था कि यह शख्स हमारा बेकार का टाईम खोटी कर रहा है, लिहाजा शोरूम के कर्मचारी इसे बाहर निकाल रहे थे। तभी अचानक से इस बुजुर्ग शख्स ने गुस्से में आकर मैनेजर से मिलने की इच्छा जताई, जिस पर सभी इसका मजाक उड़ाने लगे, मगर इस बीच बुजुर्ग की चिल्लाने की आवाज सुनकर शोरूम के मालिक वहां पहुंच गए। तब जाकर उन्हें इस पूरे माजरे के बारे में मालूम पड़ा।

मालिक के आते ही इस बुजुर्ग ने 12 लाख की बाइक खऱीदने की इच्छा जाहिर की है, जिस पर इन्हें फौरन 12 लाख की बाइक हार्ले-डेविडसन दिखाई गई।  इसे खरीदने के लिए बुजुर्ग ने जैसे ही फौरन 12  लाख रूपए  कैश निकाले तो सभी के मुंह खुले के खुले रह गए। लोगों को लग रहा था कि आखिर यह  भिखारी से दिखने वाले शख्स के पास  12 लाख रूपए…वो भी कैश.. आखिर कहां से आ गए.. सेल्समैन सहित चौकीदारी द्वारा कई इस बदसुलूकी को लेकर शोरूम के मालिक ने बुजुर्ग से खेद प्रकट किया।  इस पर बुजुर्ग ने कहा कि मुझे इससे बिल्कुल भी कोई फर्क नहीं पड़ता है कि लोग मुझ पर क्या रिएक्ट करते हैं। खैर, अब यह पूरा मसला सोशल मीडिया पर चर्चा की वजह बना हुआ है। लोग इस पर जमकर अपना रिएक्शन दे रहे हैं।

Check Also

पिछले 16 साल से 6 बच्चों की मां हर शुक्रवार को बनती है दुल्हन, जानिएं क्यों सुर्खियों में है ये दुखदायी कहानी

42 साल की महिला हीरा पिछले 16 साल से हर शुक्रवार को सोलह श्रृंगार करती ...