Home / धर्म / जन्म के महीने से जानें क्या कहता है आपका स्वभाव और करियर

जन्म के महीने से जानें क्या कहता है आपका स्वभाव और करियर

यह हम सभी जानते हैं कि आपके जन्म की तारीख जितनी महत्वपूर्ण होती है और उतना ही महत्वपूर्ण होता है आपके जन्म का महीना। बता दें कि हर महीने का अपना अलग महत्व होता है, जिसका असर हर व्यक्ति के स्वभाव पर साफ दिखता है।

ऐसी मान्यता है कि आपके जन्म का महीना करियर से लेकर आपके स्वभाव तक बहुत सी चीजों को प्रभावित करता है। आइए जानते हैंं आपके जन्म के महीने के अनुसार आपका स्वभाव और करियर क्या कहता है –

• जनवरी

जिन लोगों का जन्म माह जनवरी में होता है, उन लोगों पर सूर्य और शनि का विशेष प्रभाव बना रहता है। कहते हैं कि इस महीने में जन्मे लोग अपने कार्य में कभी-कभी लापरवाही कर जाते हैं। इस महीने में जन्में लोगों को अपने कार्यों में भी काफी जल्दबाजी रहती है, जिस कारण यह अपना नुकसान खुद ही कर लेते है।

क्या करें – जनवरी माह में जन्में लोग अगर सूर्य को जल चढ़ाएं, तो इनके ऊपर से सभी संकट दूर हो सकता है। ऐसा देखा गया है कि इस महीने में जन्में लोग कला के क्षेत्र में काफी माहिर होते हैं।

• फरवरी

वहीं, साल के दूसरे माह यानी कि फरवरी में जन्में लोगों के ऊपर शुक्र देव की विशेष कृपा होती है। ज्योतिष की मानें तो किसी भी व्यक्ति के जीवन में शुक्र ग्रह भौतिक सुख-सुविधाओं का कारक माना जाता है। ध्यान रहे कि इस माह में जन्में लोग काफी मेहनती होते हैं। हालांकि ऐसा देखा जाता है कि इस महीने में जन्में लोग अपनी कला, वाणी से दूसरों को अपनी ओर आकर्षित कर सकने में सक्षम होते हैं। यही नहीं, इस महीने में पैंदा हुए लोग अपने किसी भी कार्य को बड़े ही आसानी और सरलता से पूरा कर लेते है।

क्या करें – फरवरी माह में जन्में लोगों को अपनी कमी को दूर करने के लिए भगवान शिव को रोज जल चढाना चाहिए और मां लक्ष्मी की आराधना भी करनी चहिए।

• मार्च

शास्त्रों के अनुसार यह महीना देवताओं के गुरू बृहस्पति को समर्पित माना जाता है। इस महीने पैदा हुए लोग काफी परोपकारी होते हैं तथा धर्म के कार्यों में हमेशा आगे रहते है। इस माह में जन्में लोगों को भगवान विष्णु की पूजा जरूर करनी चाहिए।

क्या करें – मार्च माह में जन्में लोगों को भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों का उच्चारण करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति के रूके हुए कार्य जल्दी सिद्ध हो जाते हैं।

• अप्रैल

अप्रैल में जन्मे लोगों के ऊपर मंगल की विशेष कृपा होती है, अर्थात मंगल इस जातक के लिए बहुत ही शुभ होता है, जिस कारण इस माह में जन्में लोग ऊर्जावान होते है। गौरतलब है कि इनका स्वभाव जिद्दी होता है। ऐसे लोग खेल-कूद आदि क्षेत्रों में काफी तरक्की करते है।

क्या करें – अप्रैल माह में जन्में जातकों को मां दुर्गा की पूजा अवश्य करनी चाहिए, क्योंकि मां की पूजा करने से व्यक्ति के जीवन में कभी कोई परेशानी नहीं आती है। साथ ही साथ इस महीने में जन्में जातक यदि अपनी मां के चरण स्पर्श रोज करें, तो जीवन में कभी आर्थिक परेशानी नहीं आती है।

• मई 

दूसरी ओर मई महीनें में जन्में लोगों पर सूर्य अक्सर उच्च स्थान पर होता है, जिसके फलस्वरूप वे बड़ी आसानी और कम मेहनत के द्वारा उच्च पद हासिल कर लेते हैं।

क्या करें – मई माह में जन्में लोगों को अपने ऊपर जरूरत से ज्यादा विश्वास होता है, जो कई बार इन्हें ले डूबता है। इसलिए खुद पर ज्यादा विश्वास ना करें औऱ लोगों की भी बात सुनें और समझें।

• जून

जून माह में जन्में लोग काफी मनमौजी स्वभाव के होते है, जिस कारण वे अपने काम का नुकसान खुद ही कर लेते है। अक्सर देखा जाता है कि ऐसे लोग अपने कार्य और वाणी के द्वारा अपना खुद का नुकसान कर लेते हैं।

क्या करें – जून महीने में जन्में व्यक्ति को चन्द्रमा और सूर्य को प्रसन्न करने का प्रयास अवश्य से करना चाहिए। इस खास माह में जन्में जातकों को रोजाना अपने माता-पिता के पैर ज़रूर छूने चाहिए।

• जुलाई 

इस माह मेंं जन्में लोग बहुत ही भावुक और जिद्दी स्वभाव के होते है, पर इनका मन बड़ा ही साफ होता है। कभी किसी के प्रति इनके मन में क्रोध आदि जैसी भावना नही होती है। ऐसे लोगों को प्राइवेट नौकरी बड़ी जल्दी मिल जाती है और साथ ही इस नौकरी में इनकी तरक्की भी बहुत जल्दी होती है।

क्या करें – जुलाई माह में जन्में लोगों को भगवान शिव की स्तुति ज़रूर से करनी चाहिए। जुलाई महीने जन्म लेने वाले सभी व्यक्तियों को अपने माता-पिता को खुश रखना चाहिए और उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वह कोई भी ऐसा कार्य न करें जिसे उनके माता-जपिता को तकलीफ पहुंचे।

• अगस्त 

अगस्त महीने में जन्में लोगों के ऊपर शुक्र और शनि का मिश्रित प्रभाव रहता है। इन जातकों को मीडिया, फिल्म, वकालत और प्रशासनिक नौकरी में जल्दी सफलता मिल जाती है। हालांकि इन लोगों को किसी भी बात को अपनी तरफ घुमाना बहुत अच्छे से आता है। इनकी चतुराई इनकी वाणी से साफ देखी जा सकती है। ऐसे लोग अपने दोस्तों के लाभ के लिए किसी का उपयोग भली-भांती कर जाते हैं।

क्या करें – इन लोगों को जीवन में समृद्धि पाने के लिए हर शनिवार को शनि के मंदिर जाकर उनकी आराधना करनी चाहिए।

• सितंबर

शास्त्रों के अनुसार सितंबर महीना भगवान बुध को समर्पित माना जाता है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि इस माह में जन्में लोग राजनीति में बड़ी जल्दी सफल होते है। कहते हैं कि इस माह जन्में लोग अपनी लच्छेदार बातों से किसी को भी घुमा सकते हैं। इस माह जन्में लोग अपनी बुद्धि का बहुत ज्यादा करते है।

क्या करें – सितंबर माह में जन्में लोगों को अपनी फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखना चाहिए। इन्हें बुधवार के भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए।

• अक्टूबर

अक्टूबर महीने में जन्में लोगों के ऊपर चन्द्रमा का बहुत ही शुभ प्रभाव होता है। इस माह में जन्में लोगों का मन भी चन्द्रमा की तरह शीतल रहता है। ऐसे लोगों को कला और अभिनय के मामले में बहुत जल्दी सफलता मिल जाती है।

क्या करें – अक्टूबर माह में जन्में लोगों को अपना जीवन बेहतर बनाने के लिए भगवान शिव की स्तुति करनी चाहिए और साथ ही भगवान शिव के प्रसाद को बच्चे और बूढ़े व्यक्तियों में ज़रूर से बांटने चाहिए।

• नवंबर

बात अगर नवंबर माह में जन्में लोगों की करें, तो यह बुद्धि के बड़े ही प्रबल खिलाड़ी माने जाते है। इन लोगों को अपनी वाणी पर बड़ा अभिमान होता है। ऐसे लोग मजाक के साथ कटाक्ष करने में भी खूब महिर माने जाते हैं। यही नहीं, यह लोग अपने फायदे के लिए किसी का भी उपयोग करना इन्हें भली-भांति आता है। और तो और शिक्षा के क्षेत्र में इनको बड़ी जल्दी सफलता मिलती है।

क्या करें – नवंबर माह में जन्में लोगोंं को मां सरस्वती की आराधना करनी चाहिए।

• दिसंबर

दिसंबर के महीने में जन्में लोग रक्षा के क्षेत्र में बड़ी जल्दी सफल होते है। शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि ऐसे लोगों के ऊपर शुक्र और मंगल का मिश्रित प्रभाव होता है। ऐसे लोग प्रेम-प्रंसग वाले होते है।

क्या करें – दिसंबर माह में जन्में लोगों को हनुमान जी की उपासना करनी चाहिए, क्योंकि हनुमान जी की पूजा इनके सारे कष्टों को दूर कर सकती है।

Check Also

Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि के पहले दिन इस शुभ योग में करें घट स्थापना, जानें पूजन का महत्व

आज नवरात्रि का पहला दिन है. इस दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप शैलपुत्री रूप ...