Home / धर्म / घर में जरूर लगाना चाहिए तुलसी का पौधा, ये है धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

घर में जरूर लगाना चाहिए तुलसी का पौधा, ये है धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में बहुत ही ज्यादा शुभ और लाभकारी बताया गया है, ज्यादातर लोगों के घरों में तुलसी का पौधा जरूर देखने को मिलता है. लोग श्रद्धा भाव से सुबह और शाम को तुलसी की पूजा करते हैं. इतना ही नहीं बल्कि घर में अगर कोई धार्मिक काम होता है, तब भी तुलसी की पूजा की जाती है. बता दें धार्मिक महत्व के साथ-साथ तुलसी के पौधे का आयुर्वेद और विज्ञान में भी बहुत महत्वपूर्ण माना गया है.

तुलसी के धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

Tulsidal

धार्मिक महत्व-

हिंदू धर्म के अनेक ग्रंथो जैसे पद्मपुराण, ब्रह्मवैवर्त, स्कंद पुराण, भविष्य पुराण और गरूड़ पुराण में तुलसी के पौथे का विशेष महत्व बताया गया है. तुलसी पत्ते के बिना भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण की पूजा पूरी नहीं होती, तो वहीं तुलसी दल हनुमान जी को भी भोग में बेहद प्रिय होता है. अगर आप अपने घर में तुलसी का पौधा लगाते हैं, और उसकी अच्छे से देखभाल करते हैं, तो पुराणों के अनुसार पूर्व जन्म के सारे पाप खत्म हो जाते हैं.

मृत्यु के दौरान गंगाजल संग तुलसी के पत्ते लेने से पुराणों के अनुसार आत्मा को स्वर्ग और शान्ति की प्राप्ति हो जाती है. तुलसी के पत्ते और गंगाजल को पूजा में कभी भी बासी नहीं माना जाता है. तुलसी की पूजा जिन घरों में रोजाना होती है, ऐसा माना जाता है कि वहां यमदूत नहीं आते. साथ ही घर में सुख-समृद्धि भी बनी रहती है.

वैज्ञानिक महत्व-

शरीर में ऊर्जा का प्रवाह तुलसी के नियमित सेवन से नियंत्रत रहता है, साथ ही व्यक्ति की उम्र भी बढ़ जाती है. एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीबायोटिक गुण तुलसी में रहते हैं, जो शरीर को संक्रमण से लड़ने के काबिल बनाती है. घर में तुलसी का पौधा होने से वातावरण शुद्ध रहता है और तुलसी संक्रमण रोगों से लड़ती है

तुलसी और वास्तु शास्त्र- तुलसी का पौधा जिन घरों में लगा होता है मान्यता है कि वहां वास्तु दोष नहीं होता घर के उत्तर-पूर्ण कोने में ही तुलसी के पौधे को लगाना शुभ माना जाता है.

Tulsidal

कभी भी दक्षिणी भाग में तुलसी के पौधे को नहीं लगाना चाहिए, क्योंकि इससे दोष उत्पन्न होता है. कभी भी दांतो से तुलसी के पत्तों को नहीं चबाना चाहिए, इसे निगलना चाहिए. इसके पीछे ये वैज्ञानिक कारण होता है कि इसके पत्ते को चबाने से दांत खराब हो सकता है, क्योंकि पत्तों में पारा होता है.

Check Also

Chaitra Navratri 2021 : नवरात्रि के पहले दिन इस शुभ योग में करें घट स्थापना, जानें पूजन का महत्व

आज नवरात्रि का पहला दिन है. इस दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप शैलपुत्री रूप ...