Home / हेल्थ-फिटनेस / क्या हल्दी वायरल संक्रमण को रोक सकती है और क्या है इसके पीछे की सच्चाई? जानिए

क्या हल्दी वायरल संक्रमण को रोक सकती है और क्या है इसके पीछे की सच्चाई? जानिए

हल्दी वायरल संक्रमण को कैसे रोक सकती है?

चमत्कारों का खजाना है भारतीय मसाले. प्राचीन काल से हल्दी का इस्तेमाल प्राचीन औषधियों में एक सीक्रेट इनग्रेडिएंट के रूप में किया जाता रहा है, ये इसके शक्तिशाली औषधीय गुणों की वजह से है.

हल्दी में करक्यूमिन नामक एक कंपाउंड की उपस्थिति इम्युनिटी को बढ़ाने और सीजनल इनफेक्शन और एलर्जी के खिलाफ रेसिसटेंस का निर्माण करने के लिए बहुत अच्छा बनाती है.

जर्नल ऑफ जनरल वायरोलॉजी में हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, ये पाया गया कि करक्यूमिन कुछ वायरस को खत्म करने और संक्रमण से बचाने में मदद कर सकता है.

1. रिसर्च

जर्नल ऑफ जनरल वायरोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि करक्यूमिन ट्रांसमिसिबल गैस्ट्रोएंटेराइटिस वायरस (टीजीईवी) को रोक सकता है-एक अल्फा-समूह कोरोनवायरस जो सूअरों को संक्रमित करता है, संक्रमित कोशिकाओं से. उच्च मात्रा में, कंपाउंड को वायरस के कणों को मारने के लिए भी पाया गया.

टीजीईवी के संक्रमण से पिगलेट में इनफेक्शनल गैस्ट्रोएंटेराइटिस नामक बीमारी होती है, जो दस्त, गंभीर डिहाइड्रेशन और मृत्यु की विशेषता है.

टीजीईवी ज्यादा संक्रामक है और दो सप्ताह से कम उम्र के पिगलेट में हमेशा घातक होता है, इस तरह ये ग्लोबल स्वाइन इंडस्ट्री के लिए एक बड़ा खतरा बन गया है.

वर्तमान में अल्फा-कोरोनावायरस के लिए कोई अप्रूव्ड ट्रीटमेंट नहीं है और हालांकि टीजीईवी के लिए एक टीका है, ये वायरस के प्रसार को रोकने में प्रभावी नहीं है.

करक्यूमिन के संभावित एंटीवायरल गुणों को निर्धारित करने के लिए, रिसर्च टीम ने टीजीईवी से संक्रमित करने के प्रयास से पहले, कंपाउंड की कई कंसेनट्रेशन के साथ एक्सपेरिमेंटल सेल्स का इलाज किया. उन्होंने पाया कि करक्यूमिन की हाई कंसेनट्रेशन ने सेल कल्चर में वायरस कणों की संख्या को कम कर दिया.

2. निष्कर्ष

शोध से पता चलता है कि करक्यूमिन टीजीईवी को कई तरह से प्रभावित करता है: वायरस को सीधे सेल को संक्रमित करने में सक्षम होने से पहले, वायरस को ‘निष्क्रिय’ करने के लिए वायरल एंट्री के साथ एकीकृत करके, और वायरल को रोकने के लिए कोशिकाओं के मेटाबॉलिज्म में बदलाव करके.

वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बायोइंजीनियरिंग में अध्ययन और शोधकर्ता के प्रमुख लेखक डॉ लिलन झी ने कहा, “टीजीईवी एब्जॉर्पशन स्टेप और एक सर्टेन डायरेक्ट इनैक्टिवेशन इफेक्ट पर करक्यूमिन का एक महत्वपूर्ण प्रीवेंशन इफेक्ट है, ये सुझाव देता है कि करक्यूमिन में टीजीईवी संक्रमण की रोकथाम में काफी संभावनाएं हैं.” .

3. इसका सेवन करने का हेल्दी तरीका

करक्यूमिन को डेंगू वायरस, हेपेटाइटिस बी और जीका वायरस समेत कुछ तरह के वायरस की रेप्लिक्शन को बाधित करने के लिए दिखाया गया है. कंपाउंड में कई महत्वपूर्ण जैविक प्रभाव भी पाए गए हैं, जिनमें एंटीट्यूमर, एंटी-इन्फ्लामेट्री और एंटी-बैक्टीरियल एक्टिविटीज शामिल हैं.

डॉक्टर झी के अनुसार, कम साइड इफेक्ट होने की वजह से करक्यूमिन को इस शोध के लिए चुना गया था. उन्होंने कहा, “वायरल रोगों की रोकथाम और कंट्रोल में बड़ी कठिनाइयां हैं, खासकर जब कोई प्रभावी टीके नहीं हैं.

ट्रैडिशनल चीनी दवा और इसके एक्टिव तत्व एंटीवायरल दवाओं के लिए आइडियल स्क्रीनिंग लाइब्रेरी हैं, क्योंकि उनके फायदे, जैसे कि सुविधाजनक अधिग्रहण और कम दुष्प्रभाव.”

डॉ ज़ी ने कहा कि, “शोधकर्ता अब विवो में अपने शोध को जारी रखने की उम्मीद करते हैं, एक पशु मॉडल का इस्तेमाल करके ये आंकलन करने के लिए कि क्या कर्क्यूमिन के इनहाइबिटिंग प्रोपर्टीज ज्यादा कॉम्प्लेक्स सिस्टम में देखे जाएंगे.

“आगे के रिसर्च की जरूरत होगी, विवो में इनहाइबिटरी इफेक्ट का मूल्यांकन करने और टीजीईवी के खिलाफ करक्यूमिन के पोटैंशियल मेकानिज्म का पता लगाने के लिए, जो एंटीवायरल मेकानिज्म और करक्यूमिन के एप्लीकेशन की कॉम्प्रीहेंसिव समझ की नींव रखेगा”.

इम्युनिटी के लिए हेल्दी रेसिपी

1. एक गिलास गुनगुना पानी लें. 1 टीस्पून ऑर्गेनिक हल्दी, 1 चुटकी काली मिर्च और एक चुटकी शहद मिलाएं. इसे सुबह सबसे पहले लें.

2. एक गिलास गर्म दूध लें. 1 टीस्पून हल्दी, 1 टीस्पून शहद और 1 चुटकी सोंठ डालें. इसे सोने से पहले लें.

Check Also

किसी भी रूप में डाइट में शामिल करें गाजर, कई बीमारियों से आपका करेगी बचाव

वैसे तो आपको गाजर पूरे साल बाजार में आसानी से मिल जाएगी। लेकिन गाजर का ...