Home / वायरल न्यूज़ / कोरोना के बाद बर्ड फ्लू अब भारत में अपने पैर जमाते हुए

कोरोना के बाद बर्ड फ्लू अब भारत में अपने पैर जमाते हुए

केजैसा कि हम सब जानते हैं की अभी हम सब पूरी तरह से कोरोना के कहर से बाहर नहीं आए और वही अब दूसरी तरफ एक और नई बीमारी अपना शिकंजा करने को आतुर है तथा कोरोना के बाद बर्ड फ्लू अब भारत में अपने पैर जमाते हुए नजर आ रही है जिसे अनदेखा करना पड़ सकता है भारी देश में इस समय कोरोना का संक्रमण फैला हुआ है और वही बर्ड फ्लू का वायरस दोहरा संकट पैदा कर रहा है

केंद्रर सरकार ने भी सभी सभी राज्य सरकारों को सतर्क कर दिया है मध्य प्रदेश राजस्थान केरल मैं बर्ड फ्लू की पुुष्टि भी हो चुकी है

बर्ड फ्लू के लक्षण –

बर्ड फ्लू होने पर कफ , डायरिया बुखार सांस से जुड़ीी दिक्कतें सिर दर्दद मांसपेशियों में दर्द पेट दर्द उल्टीट निमोनिया गले खराश नाक बहना आंखों मेंंं इंफेक्शनन जैसी समस्याएंं हो सकती हैं 

बर्ड फ्लू से बचाव

– हाथों को अच्छे से धो लें या सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें

– पोल्ट्री फॉर्म में काम करने के लिए रबर ग्लव्स का इस्तेमाल करें तथााााा इस्तेमाल के बाद उन्हें नष्ट कर दें

– हो सकेेतो चिकन खाने से बचें या खाने सेे पहले चिकन को अच्छे से पकाए

– भीड़ – भाड़ वाले स्थाान पर जाने से बचेे तथा मास्क

बर्ड फ्लू का फैलना

 

बर्ड फ्लू एक वायरल इनफेक्शन की तरह है जो ना सिर्फ पक्षियों में बल्कि अन्य जानवरों और इंसानों के लिए भी उतना ही खतरनाक है बर्ड फ्लू से संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने वाले जानवर और इंसान इससे आसानी से संक्रमित हो सकते हैं

यह वायरस इतना खतरनाक है कि अगर टाइम पर इलाज ना किया जाए तो इससे मौत भी हो सकती है

आइए तो हम जानते हैं कि ये वायरस कैसे फैलता है

संक्रमित पक्षियों के मल और लार में यह वायरस 10 दिनों तक जिंदा रहता है दूषित सतहों को छूने से यह संक्रमण फैल सकता है

इसके फैलने का खतरा सबसे ज्यादा मुर्गी पालन से जुड़े लोगों को होता है

बाहर से अथार्थ प्रवासी पक्षी भी इसका कारण हो सकते हैं

कच्चा मांस या आधा पका अंडा खाने से भी यह वायरस तेजी से फैलता है

क्या है बर्ड फ्लू का इलाज

अलग-अलग तरह के बर्ड फ्लू का अलग-अलग तरीके से इलाज किया जाता है

लक्षण दिखने के 48 घंटों के भीतर डॉक्टर से परामर्श लो

लक्षण दिखने वाले व्यक्ति के अलावा भी उनके घर वालों को दवा लेने की सलाह दो भले ही उन लोगों को बीमारी के लक्षण ना हो

ज्यादा तर मामलो मे एंटी वायरल दवाओं से इनका इलाज किया जाता है

Check Also

पिछले 16 साल से 6 बच्चों की मां हर शुक्रवार को बनती है दुल्हन, जानिएं क्यों सुर्खियों में है ये दुखदायी कहानी

42 साल की महिला हीरा पिछले 16 साल से हर शुक्रवार को सोलह श्रृंगार करती ...