Home / हेल्थ-फिटनेस / आखिर छोटे बच्‍चे सबसे पहले ‘मां’ शब्‍द क्‍यों बोलते हैं? जानिए जवाब

आखिर छोटे बच्‍चे सबसे पहले ‘मां’ शब्‍द क्‍यों बोलते हैं? जानिए जवाब

अधिकतर बच्‍चे जब बड़े होते हैं तो सबसे पहले अपनी मां को ही पुकारते हैं. उनके मुंह से निकलने वाला पहला शब्‍द ‘मा’ या ‘ममा’ ही होता है. लेकिन क्‍या आपने सोचा है कि ऐसा क्‍यों होता है? क्‍या इसके पीछे कोई कारण है? आज ‘मदर्स डे’ के मौके पर हम आपको इस बारे में जानकारी देंगे. शायद आप जानकार चौंक जाएंगे कि परिवार और मानव विकास की पढ़ाई करने वाले स्‍कॉलर्स ने बकायदा रिसर्च किया है. हालांकि, उन्‍होंने अपने रिसर्च में यह भी पाया कि मां को पुकारने के अलावा भी पापा, मॉम, डैड आदि बालेते हैं.

असली वजह जानने से पहले आपकों यह भी बता दें कि अधिकतर भाषाओं में मम्‍मी-पापा के लिए इस्‍तेमाल होने वाले शब्‍द लगभग एक जैसे हैं. अगर आप किसी अनजाने देश में जाकर ‘मॉम’ शब्‍द कहेंगे तो वहां के लोग समझ जाएंगे कि आप मां की ही बात कर रहे हैं.

इसी तरह पापा के लिए भी दुनियाभर में लगभग एक जैसा ही शब्‍द है. जैसे- पापा, बाबा, डैड आदि. किसी अन्य शब्‍द को लेकर विभिन्‍न भाषाओं में इतनी समानताएं नहीं है.

मां-बाप से जुड़े 1072 शब्‍दों का पता लगाया

असली वजह जानने का श्रेय जॉर्ज पीटर मर्डोक नाम के एक मनोवैज्ञानिक को जाता है. मर्डोक ने 1940 के दशक में दुनियाभर का सैर किया. इस दौरान उन्‍होंने अलग-अलग जगहों पर माता-पिता से जुड़े 1072 शब्‍दों का पता लगाया था. इन शब्‍दों को उन्‍होंने एक ऐसे व्‍यक्ति को दिया जो भाषाओं क बारे में अच्‍छी जानकारी रखते हैं.

क्‍या है कारण?

इस शख्‍स ने यह पता लगाने के बाद इसपर एक पूरा चैप्‍टर भी लिखा है. उन्‍होंने पाया कि बच्‍चे पहले सबसे पहले होंठों से बोले जाने वाले शब्‍दों को ही बोलते हैं. इसलिए वे M, B और P लेटर से शुरू होने वाले शब्‍द ही बोलते हैं. इसके बाद वे T और D लेटर से शुरू होने वाले शब्‍द बोलते हैं. यही कारण है कि शुरुआत में बच्‍चे इन्‍हीं लेटर्स से शुरू होने वाले शब्‍द बोलते हैं.

बड़े होने के बाद भी क्‍यों नहीं नाम से पुकारते हैं

लेकिन जब बच्‍चे बड़े हो जाते हैं तो वे क्‍यों नहीं मम्‍मी-पापा को उनके नाम से पुकारते हैं? इंसान के सामाजिक जीव और समाज में रहने के अपने कायदे होते हैं. इनके पालन करने की बाध्‍यता नहीं है लेनिक अधिकतर ऐसा जरूर करते हैं. ये नियम किसी संस्‍कृति, परंपारा और परिवार द्वारा तय किए गए होते हैं. इन नियमों को किसी द्वारा सिखाया नहीं जाता है. यह स्‍वाभाविक होता है.

Check Also

डायबिटीज के मरीज इस तरह करें शुगर लेवल को कंट्रोल, इन चीजों पर रखें पाबंदी

आजकल इंसान पैसे कमाने के पीछे इतना पागल हो चूका है कि वह सेहत को ...